Pages

Thursday, July 1, 2010

कैसर शकीली


कैसर शकीली, शाहजहांपुरी

नुमाइंदा कलाम

एक फरेबे मुस्तकिल था वादा-- फर्दा मगर
ज़िन्दगी भर हम किसी का रास्ता देखा किये


पिआस कैसी थी के जो हस्ती पे ग़ालिब गयी
पी के पानी सो गए हैं लोग दरया ओढ़ कर



नुमाइंदा कलाम : -


तख्युल से ऊंचा मोहम्मद(saw) का रुतबा 
तफ़क्कुर से आगे मुकाम-ए-मोहम्मद (saw)

मिल जाएँ जहाँ नक्श-ए-काफ-ए-पाए शाह-ए-दीं 
ईमान का तकाज़ा है के आँखों से लगाएं 
 
                                                                                                                                                                                            


आरज़ू की वुसुअतें तो हैं अज़ल से ता अबद
हाल से मेरे गुरेज़ाँ है तो मुस्तकबिल में आ 








चल तो निकले हैं सर-ए-राह-ए-वफ़ा ऐ कैसर 
फूल अब हम पे बरसते हैं के कांटे देखें 







2 comments:

Mazhar said...

Na meri kishti hai bay-sahara ,
na door kishti say hai kinaara,
Faqt hai kafi tera ishaara ,
Mujhay sahaara kahan nahi hai.

......>>Hakim Ahmad Ali Khan Wafa.

My dear I think above shair of Wafa " Shahjahanpuri suits rather reflect your Profile.Regards Mazhar Masood

Saleha said...

Kuch likh raha hai der say bujhta hua chiraag ,
Hai door tak fiza main dhoain ki lakir si'

...................Mubarak Shamim


Is mahfil main to sirf Shahjahanpur kay Shoara ka hi kalaam hona chahiye , yahan tak ki comments main bhi.